Tuesday, 27 August 2013

भजन श्री कृष्ण जी का (श्याम मुरलिया बना लो हमे)


श्याम मुरलिया, बना लो हमे
होठों पे हर पल, सजा लो हमे
श्याम मुरलिया बना.....

मैं तो रहुंगी श्याम, हाथों मे तेरे.....
कोई ना होगा श्याम, जैसा वो मेरे....
कोई भी सुर मे, बजा लो हमे
होठों पे हर पल, सजा लो हमे
श्याम मुरलिया बना.....

मै तो बनूंगी कान्हा, नयनों का काजल....
जो भी देखे वो हो, प्रेम मे पागल....
पलकों मे हमको, बसा लो हमे
होठों पे हर पल, सजा लो हमे
श्याम मुरलिया बना.....


मै तो बनूंगी श्याम, कानों का कुण्डल...
देखा करुंगी तुम्हारा, मुखमण्डल....
कानों मे अपने, बसा लो हमे
होठों पे हर पल, सजा लो हमे
श्याम मुरलिया बना.....

मै तो बनूंगी कान्हा, पांव-पैजनिया....
देखा करुंगी श्याम, सुंदर चरनिया....
पावों मे अपने, बसा लो हमे
होठों पे हर पल, सजा लो हमे
श्याम मुरलिया बना.....

श्याम मुरलिया बना लो हमे
होठों पे हर पल सजा लो हमे
श्याम मुरलिया बना.....

मोहन श्रीवास्तव(कवि)
www.kavypushpanjali.blogspot.com
26-08-2013,monday,9pm(738),
pune.maharashtra.


Post a Comment