Tuesday, 1 October 2013

महात्मा गांधी जी के पुकार से

आवाज निकलने की देरी थी,
कोटि-कोटि जन आते थे
महात्मा गांधी जी के पुकार से,
सब भारत माँ पे मर-मिट जाते थे

कहीं तीर नहीं,तलवार नही,
कहीं नहीं गोलियां चलती थी
अंग्रेजों के कानों में,
बस जय हिंद सुनाई पड़ती थी

देश की आजादी के लिये,
उनमें जज्बा अजब निराला था
भारत का बच्चा-बच्चा,
आजादी का मतवाला था

सादा जीवन,उच्च विचार,
बापू जी के आदर्श थे
सत्य,अहिंशा,भाई-चारा, उनका,
सभी के लियी परामर्श थे

हम सबकी आजादी में,
उन लाखों-लाखों की कुर्बानी थी
पर आजादी की लड़ाई में,प्रमुख भुमिका,
राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की थी

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com

30-09-2013,monday,11:30am(762),

pune,maharashtra
Post a Comment