Saturday, 29 October 2011

कब तक ऐसे ही सहते रहोगे

कब तक ऐसे ही सहते रहोगे,
उनके अत्याचारों को !
कब तक ऐसे यूं ही डरते रहोगे,
उन आततायियों के दुराचारों से !!

दिन -दहाड़े हत्याएं करके ,
वे खुले आम घूमते है !
अबलावों की ईज्जत लूट के वे,
मस्ती के साथ झुमते है !!

आज अत्याचार हुआ हम पर,
कल तुम पर भी वही दुहराएंगे !
एक-एक कर सब पर वे,
अपना आतंक मचाएंगे !!

अन्याय अत्याचार को सहना,
ये वीरता नही कायरता है !
अपराधियों के सामने सर को झुकाना,
यह विनम्रता नही अराजकता है !!

एकता मे अपरिमित बल है,
आगे बढ़ो और मुकाबला करो !
इसकी उनको सजा दिला,
उनके आतंक को नष्ट करो !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-२८/१२/२०००,मंगलवार,रात्रि-०१ बजे,

चंद्रपुर(महाराष्ट्र)
Post a Comment