Friday, 25 November 2011

भजन(ऐ री सखी जिसे देखा है आज)

री सखी जिसे देखा है आज,मेरा दिल ले गया, मेरा दिल ले गया !
तन पे पिताम्बर ,गले मे हार,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी....

जब से देखा है उसको हमने,मन नही लगता है कोई काम को करने !
नही है मुझे अपना होशो-हवास,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

अपनी बसुरिया कैसे बजाता,हमको सखी वो खूब रिझाता !
कहते थे सब उसको राधा का श्याम,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

वॄंदावन मे वो रास रचाता,ग्वालों के बीच मे वो धेनु चराता !
वो तो सखी है पूरण काम, मेरा दिल ले गया मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

उसकी ऐसी मोहिनी मूरति,कभी देखी ऐसी सावली सुरति !
कहते थे सब उसको माखन चोर,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

मै सखी अब दिन रात तड़पती,उसके दरश को अखियां तरसती !
जल बिन मछली जैसा मेरा हाल,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

मै तो उसकी प्रेम दिवानी,मेरे आखो से बहते नित पानी !
मै तो जाउंगी उसके ही पास,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

भुख प्यास नही लगती मुझको,कैसे भी पा जाती मै उसको !
कहा खो गया है मेरा श्याम, मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

उसका श्याम सलोना चेहरा,माथे पे मोर-पंख का सेहरा !
वो मुझे याद आए दिन रात,मेरा दिल ले गया,मेरा दिल ले गया !!
री सखी...

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-१४//१९९१,
रविवार,शाम-.१२ बजे,

एन.टी.पी.सी.दादरी,गाजियाबाद (.प्र.)

Post a Comment