Tuesday, 13 March 2012

कोटि-कोटि है नमन तुम्हे

मातृ भुमि की बलि बेदी पे,
प्राण गवाने वालों !
कोटि-कोटि है नमन तुम्हे,
वतन पे मरने वालों !!

मरकर के भी तुम अमर हो गए,
उपकार है तुमने हमपे किया !
धन्य है वो मा जिसने तुम्हे,
अपनी कोख से है जन्म दिया !!

देश हित के लिए तुमने वीरों,
अपने प्राणों का बलिदान किया !
हम गिन-गिन कर बदला लेंगे उनसे,
जिसने तुम्हे चिर-निद्रा मे है सुला दिया !!

अंग फ़ड़क रहे हैं हमारे,
दुश्मन के शीश काटने को !
मजबूर कर देंगे हम उनको,
जीवन का भीख मांगने को !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
१०//१९९९,दोपहर १२ बजे,

चन्द्रपुर महा.



Post a Comment