Saturday, 16 November 2013

तेरी आंखो मे है कैसा नशा

शिशे का तन बदन तेरा,
नागिन जैसी तुम चलती हो !
राहो मे ठंडी हवा जैसी,
और परियों सा रूप बदलती हो !!

मुखड़ा गुलाब सा है तेरा,
तुझमे चंदन की खुशबू समा जाता !
तुझे देख-देख के क्या हम कहे,
पूनम का चांद भी शर्माता !!

तेरी मुस्कान से वो यारा,
कलिया भी फ़ूल बन जाते हैं !
तेरे बोलने से ये गुलशन सारा,
खुशबू के फ़ूल बरसाते हैं !!

तेरी आंखो मे है कैसा नशा,
तुम चलती-फ़िरती मधुशाला हो !
होठों का रंग गुलाबी सा,
रातों मे दिन का उजाला हो !!

तेरी झलक कोई भी देखे तो,
बेचैन सा वो हो जाता है !
मोहन की तरह तेरे सपनों मे,
वो रह-रह के खो जाता है !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-१३/०९/२०००,वुद्धवार,रात-११.२० बजे,

चंद्रपुर (महाराष्ट्र)

Post a Comment