Monday, 4 November 2013

मत मारो हमारी गौ माँ को

मां से भी बढ़कर गौ मां है हमारी,
फिर मां का कत्ल क्यों हो रहा है
हम देख के भी अंजान से हैं,
ये हमारे अक्ल को क्या हो रहा है

ये कैसा दुर्भाग्य है हमारा,
कि हम अपने मां की रक्षा नही कर पाते
जिस मां का हो हमने दूध पिया,
हम उसे सुरक्षा नही दे पाते

मत मारो हमारी गौ मां को,
गाय हमारी माता है
कर जोड़ के विनती है सबसे,
ये सारे जहां की बिधाता है

वोटों के सौदागरों से है विनती,
कि गौ हत्या पर पुर्ण प्रतिबंध लगाया जाये
इनकी सम्पूर्ण  सुरक्षा हो,
ऐसा प्रबंध कराया जाये
इनकी सम्पूर्ण  सुरक्षा हो,
ऐसा प्रबंध कराया जाये....

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
04-09-20123,wednesday,4pm,(745),
pune,maharashtra.




Post a Comment