Wednesday, 6 November 2013

छुआ-छूत कभी बंद नहीं होगा



आदि काल से चला रहा है ये,
और आगे भविष्य मे रहेगा भी
छूआ-छूत कभी बंद नहीं होगा,
इतिहास सदा ये कहेगा भी

चार वर्ण पहले भी थे,
और चार वर्ण तो अब भी हैं
ब्राह्मण,क्षत्रिय,वैश्य,शूद्र थे पहले,
ये चार श्रेणियां अभी भी हैं

सरकारी या हो निजी क्षेत्र,
सबमे चार तरह की व्यवस्था आज भी है
प्रथम,द्वितीय.तृतीय चतुर्थ,
ये श्रेणियां आज भी हैं

छुआ-छूत का भेद-भाव,
इन सबमें कड़ाई से है चलता
अनुशासन भंग हुआ यदि किसी से,
तो सजा उन्हें है अवश्य मिलता

मित्रों इसिलीये जरूरी है शिक्षा,
जिससे हम कभी भी आगे हैं बढ़ सकते
शिक्षित होकर हम समाज-राष्ट्र को,
और भी जागरूक हैं कर सकते

आदि काल से चला रहा है ये,
और आगे भविष्य मे रहेगा भी
छूआ-छूत कभी बंद नहीं होगा,
इतिहास सदा ये कहेगा भी
छूआ-छूत कभी बंद नहीं होगा,
इतिहास सदा ये कहेगा भी.....

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.in
31-10-2013,Thursday,06:00am,(785),

Pune,Maharashtra

Post a Comment