Sunday, 13 May 2018

"उस कुल में मेरा जन्म न हो"

उस कुल में मेरा जन्म न हो ,
बेटी जिनको स्वीकार न हो |
जहां नफरत और अपमान मिले ,
और जीने का अधिकार न हो ||
उस कुल में मेरा ...........

कोख पे आरी चल जाती ,
और माँ ममता की उजड़ जाती |
जब कभी पिले हाथ हुए तो ,
दहेज की बलि है चढ़ जाती  ||

ऐसे हैवानों के यहाँ ,
मेरा अपना घर -द्वार न हो ...
उस कुल में मेरा ..........

जहां नारी का सम्मान न हो ,
ऐसे घर मेरा बिवाह न हो |
जहां शब्दों के तीन तलाक मिले ,
वहां मेरा कभी निकाह न हो ||

जहां हिंसा और हो मार -काट ,
वहां कभी मेरा ब्यवहार न हो ....
उस कुल  मे मेरा ...........

 ऐसे घर मेरा जन्म न हो ,
जहां मजहब की  दिवारें हों |
बेटी जिनको मंजूर न हो ,
और बेटे जिन्हें दुलारे हों ||

उस कोख की मुझको चाहत है ,
जिसमें मेरी खुशियाँ उधार  न हों ......

उस कुल में मेरा जन्म न हो ,
बेटी जिनको स्वीकार न हो |
जहां नफरत और अपमान मिले ,
और जीने का अधिकार न हो ||
उस कुल में मेरा ...........


मोहन श्रीवास्तव ( कवि )
रचना क्रमांक ;-( 1064 ),08/05/2017,
झीट ,पाटन ,दुर्ग (छ .ग )

Post a Comment