Thursday, 27 October 2011

तो पति कि जमानत जब्त हो जाती है

शादी-विवाह कि बातें सुनकर,
कुवारों के दिल मे लड्डू फ़ूटते हैं !
आंखों की नीद गायब होकर,
मन मे सुहाने सपने वो बुनते हैं !!

बहुत मान-मनौव्व्ल करने पर,
जब शादी की तारीखें रखी जाती !
शहनाई की गूंज बाजे-गाजे से,
तब बारात दुल्हन के घर मे आती !!

पूरे रश्मों-रिवाज को पुरे कर,
दुल्हन-दुल्हे के घर आती है !
कुछ दिन शांति का राग अलापकर,
फ़िर अशांति के गीत वह गाती है !!

जब नई- नवेली घर आई,
तो अखियां कैसे चार हुए!
पत्नी के घर मे आते ही,
तब दुश्मन अपने घर-द्वार हुए !!

साड़ी- मेकप- बाजार घूमना,
यह उसके लम्बे लिस्ट मे जाता !
विभिन्न तरह के फ़र्माईस से,
फ़िर वो बेचारा पछताता !!

ससुराल-घर पत्नी मे,
उसकी त्रिशंकु कि हालत हो जाती !
यदि पत्नी समझ दार नही मिली,
तो पति की जमानत जब्त हो जाती !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-०७/१२/२०००,रात्रि-१२.३५बजे,बॄहस्पतिवार,

चंद्रपुर(महाराष्ट्र)



Post a Comment