Wednesday, 19 October 2011

हम भी कभी थे ट्रैफ़िक पुलिस मे

हम भी कभी थे ट्रैफ़िक पुलिस मे,
जब हम कई तरह से पैसा कमाते थे !
साहब लोगों को खुश करके रखते,
और लोगों पर रोब जमाते थे !!

चलान की पुस्तक हाथ मे लेकर,
हम वाहनों की चेकिंग करते थे !
पुलिस-कोर्ट का भय दिखलाकर,
हम उनसे अपनी जेबें भरते थे !!

आमतौर पर जादा तर वाहन और चालक मे,
कुछ कुछ कमियां रहती ही हैं !
कभी टैक्स है तो इंश्योरेन्स नही,
कभी लाइसेन्स की मजबूरियां रहती ही हैं !!

इन्ही सब बातों का लाभ उठाकर,
हम उनसे मनमानी रकमें वसुलते थे !
वाहन चेकिंग का पखवारा हफ़्ता-दिन का नही,
हम बारह महिनों ही चेकिंग करते थे !!

इन सबके साथ-साथ हम,
फ़ुटपाथ वालों पे भी रोब जमाते थे !
उन दुकानदारों को भय दिखलाकर,
हम उनसे भी पैसा कमाते थे !!

उन वाहन मालिकों से महिना लेते,
जिनके वाहन अपने एरिया मे चलते थे !
बाकी औरों दुपहियों को,
अपने भय के पास मे जकड़ लेते थे !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-१३/११/२००० ,सोमवार रात - .१५ बजे,

चंद्रपुर(महाराष्ट्र)

Post a Comment