Friday, 7 October 2011

राजनीति हो गया है व्यापार

आज हमारे प्यारे भारत को ,
कलियुग के पापों ने घेरा है !
जहा बेइमानों मक्कारों का,
हर-पल रहता बसेरा है !!

क्रूरता-धुर्त -चालाकी ने,
उनके दिलों मे धाक जमाया है !
इन्ही धूर्त चालाकों ने
प्यारे भारत पर आतंक मचाया है !!

राजनीति हो गया है व्यापार,
जहां पैसे ही कमाना मकसद है !
चाहे पक्ष या हो बिपक्ष,
सबको बस वोटों की चाहत है !!

जो अपराध रक्त से सिंचित हो,
उनसे भला देश का क्या होगा !
ऐसे भीगे कम्बलों मे,
बस पाप ही पाप भरा होगा !!

जो बचे-खुचे हरिश्चंद्र भी हैं,
उनकी हालत दातों मे जीभ सी है !
भ्रष्टाचार के आवरण मे रह कर,
उनकी उपस्थिती एक टंगी हुई तश्वीर सी है !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-०४/०४/२००१ ,बुद्धवार, सुबह-.१० बजे
थोप्पुर घट, धर्म पुरी,(तमिल नाडु)



Post a Comment