Friday, 7 October 2011

मै भवरा तेरा मतवारा हूं

तुम चंद्रमुखी, चंदन सा वदन,
मै तेरा आशिक आवारा हूं !
तुम कली महकते फ़ूलों की,
मै भंवरा तेरा मतवारा हूं !!

तुम मूरत हो संगमर्मर की,
मै तुम्हे तरासने वाला हूं !
तेरी हुश्न से ,छलकती मदिरा का,
मै तो बस इक प्याला हूं !!

तुम बहती कोई नदी सी हो,
मै झरना बन के समा जाता !
तुम नील गगन की परी ही हो,
जो तुझे देख के पागल मै हो जाता !!

तुम चांद सी दिखती पूनम की,
और धरती की हरियाली हो !
खुशबू सी भरी तेरी गुलशन का,
मै अनजान सा माली हूं !!

तुम गुलवदन-नशेमन-जानेमन,
तुम प्यार का कोई नज़राना हो !
तेरी फ़ूलों से हसते होठों का,
मै तो पागल दीवाना हूं !!

तुम चंद्रमुखीचंदन सा वदन,
मै तेरा आशिक आवारा हूं !
तुम कली महकते फ़ूलों की,
मै भंवरा तेरा मतवारा हूं !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
दिनांक-०१/०३/२००१, बृहस्पतिवार, सुबह बजे,
केरला एक्सप्रेस,सेलम . से बल्लारशह जं. के बीच मे,





Post a Comment