Tuesday, 4 October 2011

हम भगवान से भी लड़ सकते हैं

जब बुरा नही करते हो किसी का,
और ही अन्याय को हम करते हों !
तो ईंषान मात्र कि बात ही क्या,
हम भगवान से भी लड़ सकते हैं !!

जीवों को सताना महापाप,
सभी जीव तो अपने  जैसे हैं !
हम उन्हे भी अपनो जैसा प्यार करें,
चाहे वे जीव कोई कैसे है !!

"अहिंसा परमो धर्मः" को,
आवो दिल से अपनाए हम !
बददुआ ना पाए हम उनकी,
सदा दुआएं पाए हम !!

हम किसी आंख के तारे है तो,
वे भी किसी के दुलारे है !
अपने प्राण प्यारे है हमको,
तो उनके भी प्राण तो प्यारे है !!

सदा पाप से बचे रहे,
तो हम दिल से सुख पा सकते हैं !
बस ईंषान मात्र की बात ही क्या,
हम भगवान से भी लड़ सकते हैं !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
रचना की तारीख- १५/०२/२००१, वॄहस्पतिवार,रात - .४० बजे,

थोप्पूर घाट, धर्मपुरी,(तमिलनाडु)
Post a Comment