Monday, 3 October 2011

जब बात हो बारह महिनों का

ईंतजार की घड़ियां लम्बी होती हैं,
खास तौर से अपनों का !
दिन दस दिन कि बात ही क्या,
जब बात हो बारह महिनों का !!

नए साल का माह जनवरी,
दे गया हमको सर्दी !
इससे भी बढ़ कर माह फ़रवरी,
निकला बड़ा बेदर्दी !!

मार्च माह की गुलाबी ठंडक,
और कर दिया दिवाना होली !
अप्रैल माह का हाल मत पूछो
जो गर्मी कि थैली खोली !!

मई-जून की पड़ती गर्मी से,
तन-मन तो मेरा बेहाल हुआ !
जुलाई-अगस्त की रिम-झिम बरिस से,
दिल मे मेरे भुचाल हुआ !!

माह सितम्बर का धूप-छांव,
और अक्टूबर मे आई दिवाली !
नवंबर-दिसम्बर का मध्यम जाड़ा,
पर पिया बिन दिल है मेरा खाली !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
रचना का दिनांक-/११/२०००,सोमवार शाम .०५ बजे

चंद्रपुर(महाराष्ट्र)
Post a Comment