Monday, 14 November 2011

"कुदरत ने दिल से बनाया तुम्हे"

कुदरत ने दिल से बनाया तुम्हे,
जो देखे तुम्हारा हो जाए !
तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!

हिरनी सी चाल,रेशम से बाल,
हर ख्वाब तुम्हारे  सुनहरे है !
गुलनार गाल,तुम हो कमाल ,
और नयना शाम-सबेरे है !!
पायल रुनझुन -रुनझुन करती ,
 और  कोयल के जैसी गाये ..
तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!



सीने में नदियों सी उफ़ान ,
जिसे देख के धडकन बढ़ जाये !
अंगड़ाई तुम्हारे लेने से  ,
मन में महुआ रस झड़ जाये !!
माथे पे बुँदे पसीने की ,
किस्मत पे अपने इतराये ...

तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!
भौहें जैसे दुईज की चाँद ,
नाजुक सी कलाई वाली हो !
लचकाती कमर-फ़ूलों सा अधर,
तुम तो कितनी मतवाली हो !!
कारे -कजरारे नयनों में,
बस प्रीत की दुनिया की नजर आये
तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!...


नथिया की चमक को देख सनम ,
सूरज भी शर्मा जाता है  !
मुखड़ा गुलाब के  जैसा है ,
जहां चांद भी सर को झुका जाता !!
बिजली गिरती है अदाओं से ,
बिन मौसम बादर बरसाये ....

तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!...




पल्लू से झांकता जब  नाभि  ,
जैसे ईंद्रधनुष का नजारा हो !
हीरे -मोती की लड़ी करधन ,
जैसे करती कोई ईशारा हो !!

खुश्बू फैलाते हुए आंचल ,
रह -रह के हवा में लहराए ...

तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!...


पिपर की पात खनके चूड़ी ,
मुस्कान शरद की धुप लगे !
हो नील गगन की परी कोई ,
मन मोहिनी सुंदर रूप लगे !!

कानो के जब झुमके झूलें ,
गुलशन में बहारा आ जाये ....

तुम जिससे भी दो  बातें करो,
 सपनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!...


चंदन सा बदन  कितनी सुंदर,
जैसे रूप का कोई खज़ाना हो !
करने दीदार लम्बी कतार,
कोई पागल कोई दिवाना हो !!

जुल्फें हैं घटाओं के जैसे ,
मन मोर को जो है थिरकाए ...

तुम जिससे भी दो  बातें करो,
पनो मे तुम्हारे  खो जाए  !!...


कुदरत ने दिल से बनाया तुम्हे,
जो देखे तुम्हारा हो जाए !


तुम जिससे भी दो बातें करो ,
सपनों में तुम्हारे खो जाये ...
http://kavyapushpanjali.blogspot.in/2011/11/blog-post_8270.html


मोहन श्रीवास्तव (कवि)

दिनांक-२२/०७/२००५,शुक्रवार,रात्रि बजे,

खरोरा,रायपुर( ..)

Post a Comment