Thursday, 8 March 2012

रंग लगावो प्यार से उनको

भंग के रस को पी के यारों,
होली खूब मनावो !
रहते हो धरती पे तुम,
पर आकाश मे उड़ते जावो !!

शिव-भोले की बूटी है ये,
पियो और पिलावो !
रंग -बिरंगी होली को,
हसते हुए मनावो !!

गले मिलो तुम उन लोगों से,
जो दुश्मन तुम्हे समझते हैं !
रंग लगावो प्यार से उनको,
जो बिन बादल के बरसते हैं !!

चार दिनों का जीवन है अपना,
हंस- मिल के इसे गुजारो !
नफ़रत को जड़ से मिटा करके,
प्यार से इसे संवारो !!

होली के रंगो जैसे ही,
अपने दिल से दिल को मिलावो !
ईन्षानियत की राह पे चलके,
दुश्मन को भी गले लगावो !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com

१३--२०००,चंद्रपुर महा.



Post a Comment