Saturday, 4 May 2013

जहां हर रोज मुनीया की ईज्जत लुटी जाती

ये है भारत देश हमारा,
जहां हर रोज मुनीया की ईज्जत लुटी जाती
अपराधियों को डर है ही नही,
क्योंकि यहां हल्की सी सजा है दी जाती

कुछ दिन गला फाड़ते हैं हम,
उन बेबस लाचारों के लिये
पर धीरे-धीरे सब भूल हैं जाते,
जो जख्म उन्हें उन आवारों ने दिये

शाशनतन्त्र की नाकामी से,
आज नित-प्रति हादसे हो रहे हैं
कठोर कानून नही होने से,
आज हम खून के आंसू रो रहे हैं

अभी कहीं कोई सुरक्षित है नही,
जाने कब किसकी बारी जाये
दहशत मे रहते लोग यहां,
कब किसकी ईज्जत पे आरी चल जाये

समय बुरा होने के कारण,
हमे अपने से भी सोचना होगा
अश्लील हरकतों से रहें दूर,
और पुरे वस्त्रों को पहनना होगा

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
१९--२०१३,शुक्रवार,१२.३५ बजे,

पुणे ,महा

Post a Comment