Saturday, 19 November 2011

साझा परिवार


मैने पुछा बुढ़े बाबा से
बाबा पहले होते थे साझे परिवार
पहले प्रेम से रहते थे
अब क्यो होते है अलग परिवार
पहले होते थे बर्तन महगे
इस लिए होता था साझा परिवार
जब से प्लास्टिक ,स्टील का बर्तन फ़ैला
तब से झट होने लगे अलग परिवार

मोहन श्रीवास्तव
दिनांक-५/५/१९९१ ,रविवार,४.४३ बजे,
एन.टी.पी.सी.दादरी, गाजियाबाद (उ.प्र.)
Post a Comment