Saturday, 15 October 2011

तेरी दया जो हो जाए मैया

तेरी दया जो हो जाए मइया ,
सब बिगड़े काम बन जाते हैं !
आंसू से भरे हों जिनके दिल ,
तेरी दया से वो मुस्काते हैं !!

उन दुखियों के लाज बचाती हो ,
जो तुझपे आश मा रखते हैं !
तूं तो उनके भाग्य बदल देती !
जो विश्वाश मा तुझपे  रखते हैं !!

जिनकी गोदें है सूनी मा,
उन्हे फ़ूलों से तुम भर देती !
जिनकी मांगे है सूनी मा ,
उन्हे मन चाहा तुम वर देती !!

तुझे नही चाहिए मणियों का हार ,
ना ही पकवानों की भूखी !
बस श्रद्धा की भूखी हो मइया ,
चाहे कोई खिलाए रुखी-सुखी !!

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-०९/०४/२००० , रविवार, सुबह - .३० बजे ,

चंद्रपुर (महाराष्ट्र)
Post a Comment