Monday, 28 November 2011

आराधना(कहा तुम खोई हो प्यारी मइया)

कहां तुम खोई हो प्यारी मइया
हम बाल तुमको कब से पुकारे !
जगत की जननी हो अम्बे मइया
तू मां हो सुरज ,हम सब हैं तारे !!

तेरे दर्शन को हम सब आए
कहा छुपी हो हे काली माता !
तुम्हारी चरणों की पूजा करके
पा लेगे हम सब अपना किनारा !!

तुम्ही हो माता,पिता तुम्ही हो
तुम्ही हो राधा,सिता तुम्ही हो !
तुम्ही हो ब्रह्मा,विष्णू तुम्ही हो
तुम्ही हो शिव शंकर डमरु वाला !!

ये मेरी नइया डूब रही है
आके तु दे दो हे मा सहारा !
तुम्हारी भॄकुटी ही मात्र से मा
सभी को मिल जाएगा किनारा !!

ये खाली झोली है मा हमारी
झोली को मेरे भर दो हे माता !
द्वारे आए है हम भिखारी
भक्ती दे दो तुम अपनी माता !!

कहां तुम खोई हो ,हे प्यारी मइया
हम बाल कब से...............

मोहन श्रीवास्तव कवि)
www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक- १९//१९९१ ,बॄहस्पतिवार,दोपहर -१२.४० बजे,

जोगापुर ,सुर्यभानु पुर भदोही (.प्र.)
Post a Comment