Sunday, 27 November 2011

आराधना(हनुमत वंदना)

हे महावीर स्वामी मेरे,उद्धार करो इस दुनिया से !
छोटी सी भेंट स्वीकार करो,प्रभु मुझ अग्यानी दुखिया से !!
हे महावीर स्वामी.........

तुम महा शक्ति,तुम महाकाल ,जीवन प्रदान करने वाले !
श्री राम चन्द्र की भक्ति मे, जीवन अर्पण करने वाले !!
हे महावीर...................

हम बाल तुम्हारे द्वार खड़े,कब से प्रभु तुम्हे पुकार रहे !
तुम दयावान हो दया करो प्रभु,सन्त तुम्हे सब कोई कहे !!
हे महावीर...........................

अतुलनीय बल है तुममे,जिसका प्रभु तुमको ध्यान नही !
हम याद दिलाते है तुमको,अपने को तुम समझो तो सही !!
हे महावीर.......................

हम महाजाल मे है अटके,इस जाल को तुम काटो मेरे !
निज भक्ती दे दो हे भगवन,हम बालक है सब कोई तेरे !!
हे महाबीर.................

हम दीन-दुखी बेसहारे हैं,हमारा तो कोई सहारा नही !
एक मात्र आसरा प्रभु तुझ पर,और कोई हमारा है नही !!
हे महाबीर..........................

हमारे अपराध क्षमा कर दो,हम बच्चे है तेरे भगवन !
अब तो प्रभु हमारी पुकार सुनो,दूर करो हमारे बन्धन !!
हे महाबीर.........................

लाल-लाल है मुख तेरा प्रभु,लाल-लाल तेरी काया है!
वो सब कुछ है तेरा भगवन,जो कुछ भी हमने पाया है!!
हे महाबीर स्वामी मेरे...........................

मोहन श्रीवास्तव (कवि)
     www.kavyapushpanjali.blogspot.com
दिनांक-//१९९१ शुक्रवार
शाम ५.५० बजे,

एन.टी.पी.सी. ,दादरी ,गाजियाबाद (.प्र.)

Post a Comment